सबसे रईस शख्‍स ने ट्विटर पर पूछा- कहां खर्च करूं अपनी अरबों की दौलत?

0
469

नई दिल्ली. दुनिया के सबसे अमीर शख्स ने ट्विटर पर कुछ ऐसा लिखा कि सब हैरान रह गए. दरअसल, कुछ वक्त पहले जेफ बेजोस ने ट्विटर खुलेआम ये पूछ लिया कि मैं अपनी अरबों की दौलत कहां खर्च करूं. दरअसल, जेफ दुनिया के उन चंद लोगों में शुमार हैं जो अपनी संपत्ति का बड़ा हिस्सा दान करते हैं. उन्होंने ट्वीट किया कि वह अपनी संपत्ति को कैसे डोनेट करें’? उन्होंने लिखा, ‘मैं लोगों की भलाई के लिए कुछ करना चाहता हूं. ये मेरे काम करने के तरीके के ठीक उलट होगा, मतलब कि ये लॉन्ग टर्म में नहीं बल्कि शॉर्ट टर्म में किया जाएगा, जिससे जरूरतमंद को तुरंत फायदा मिले. इसके अलावा इसका असर भी लंबे वक्त तक बना रहे.jeff-tweets
Don’t Miss: Shani Dev mantras can end all your worries!
सोशल मीडिया पर मिले 32,000 से ज्यादा जवाब
सोशल मीडिया के यूजर्स ने भी अरबपति जेफ बेजोस को निराश नहीं किया और तरह-तरह के सुझाव उन्हें दिए. 24 घंटे के अंदर ही उन्हें 32,000 से ज्यादा जवाब मिले. किसी ने उन्हें लाइब्रेरी पर पैसे खर्च करने को कहा तो कोई उन्हें अमरीका के एलजीबीटीक्यू कम्युनिटी भी हेल्प करने का सुझाव दिया. कुछ लोगों ने उन्हें हेल्थ सेक्टर में भी काम करने का सुझाव दिया. जेफ ने स्पेस टेक्नोलॉजी जैसे सेक्टर्स में भी काफी निवेश किया है. जेफ बता चुके हैं कि वह अमेजन के 1 अरब डॉलर के स्टॉक हर साल बेचेंगे जिससे वह अपनी कंपनी ब्लू ऑरिजन को फंड कर पाएं. ब्लू ऑरिजन स्पेस ट्रैवल को सस्ता करने के लिए काम कर रही है.
दानवीरों की लिस्ट में नहीं है नाम
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जेफ के पास कुल 90.6 अरब डॉलर की संपत्ति है. जेफ अपने माता-पिता द्वारा चलाए जा रहे एक फाउडेंशन को सपोर्ट करते हैं. वह कैंसर रिसर्च सेंटर को भी 40 मिलियन डॉलर डोनेट कर चुके हैं. हालांकि जेफ का नाम अभी भी अरबपति दानवीरों की सूची में शामिल नहीं है. दुनिया के 167 सबसे अमीर लोग अपनी कुल संपत्ति का आधा से ज्यादा हिस्सा दान करने के लिए हामी भर चुके हैं. इसमें सबसे अमीर बिल गेट्स के अलावा फेसबुक फाउंडर मार्क जकरबर्ग भी शामिल हैं.
ऐसे की अमेजॉन की शुरुआत
जेफ बेजोस ने साल 1986 में प्रिंसटन यूनिवर्सिटी से स्नातक की और उसके बाद कंप्यूटर साइंस के फील्ड में काम किया. इसके बाद जेफ बेजोस ने फिटेल नामक कंपनी के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए एक नेटवर्क बनाने का काम किया और फिर 1994 में न्यूयॉर्क से लेकर सिएटल तक की यात्रा करने के बाद उन्होंने amazon.com की स्थापना की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here